ऐसा शिव मंदिर जो दिन में दो बार गायब हो जाता है।

श्री स्तम्भेश्वर महादेव मंदिर। जगह के बारे में: अठारह हिंदू पुराणों में से एक, जहां देवताओं ने तारकासुर को मारने के लिए कार्तिकेय की महिमा की प्रशंसा की, वहीं कार्तिकेय स्वयं अपने कृत्य से दुखी थे। उन्होंने देवताओं से कहा- 'मुझे तारकासुर को मारने के लिए खेद है क्योंकि वह भगवान शिव का बहुत बड़ा भक्त था।

ऐसा शिव मंदिर जो दिन में दो बार गायब हो जाता है।

स्तंभेश्वर महादेव मंदिर 
यह मंदिर अरब सागर के बीच कैम्बे तट पर स्थित है 150 साल पहले खोजे गए इस मंदिर का उल्लेख महाशिव पुराण के रूद्र सहिता मे मिलता है इस मंदिर के शिवलिंग का आकार चार फुट ऊंचा और 2 फुट के व्यास वाला है ! महादेव का यह स्तंभेश्वर मंदिर सुबह और शाम दिन मे दो बार पल भर के लिए गायब हो जाता है और कुछ देर बाद उसी जगह पर वापिस भी आ जाता है जिसका कारण अरब सागर मे उठने वाले ज्वार और भाटा को बताया जाता है इस कारण श्रद्धालु मंदिर के शिवलिंग के दर्शन तभी कर सकते है जब समुन्द्र की लहरे पूरी तरह शांत हो ज्वर के समय शिवलिंग पूरी तरह से जल में समाहित हो जाता है यह प्रक्रिया प्राचीन समय से ही चली आ रही है यह आने वाले सभी श्रद्धलु को एक खास पर्चे बांटे जाते है जिसमें ज्वर भाटा आने का समय लिखा होता है ऐसा इसलिए किया जाता है ताकि यहाँ आने वाले श्रद्धालुओं को परेशानियों का सामना न करना पड़े !

मंदिर से जुड़ी पौराणिक कथा

छवि स्रोत templefolks
इसके अलावा इस मंदिर के साथ एक पौराणिक कथा भी जुडी हुई है कथा के अनुसार राक्षस तारकासुर ने भगवान् शिव की कठोर तपस्या की एक दिन भगवान् शिव तारकासुर की तपस्या से प्रसन्न होकर उसके सामने प्रकट हुए और उसे वरदान मांगने को कहा उसके बाद वरदान के रूप में तारकासुर ने भगवान शिव से माँगा की उसे सिर्फ शिव जी का पुत्र ही मार सकेगा और वो भी छे दिन की आयु का शिव जी ने यह वरदान तारकासुर को दे दिया और वो वहा से अंतर ध्यान हो गए इधर वरदान मिलते ही तारकासुर तीनो लोक में हा हा कर मचाने लगा जिससे दायर कर सभी देवता लोग भगवान शिव के पास गए देवताओं की विनती पर भगवान् शिव ने उसी समय अपनी शक्ति से श्वेत पर्वत कुण्ड से छे मस्तक चार आँख और बारहा आँख वाले एक पुत्र को उत्पन किया जिसका नाम कार्तिके रखा गया जिसके पश्चात कार्तिके ने छे दिन की उम्र में तारकासुर का वध किया लेकिन जब कार्तिके को पता चला कि तारकासुर भगवान् शंकर का भक्त था तो वह काफी परेशान हो गए फिर भगवान् विष्णु ने कार्तिके से कहा उस स्थान पर एक शिवालय बनवा दे ! इससे उनका मन शांत होगा फिर कार्तिके ने ऐसा ही किया फिर सभी देवताओं ने मिलकर वही सागर संगम तीर्थ पर विश्वनंद स्तंभ की स्थापना की जिसे आज स्तंभेश्वर तीर्थ स्थान के नाम से जाना जाता है !

अरब सागर मे स्थित है

छवि स्रोत Hindu Temples of India
यह मंदिर गुजरात के भावनगर में कोलियाक तट से तीन किलोमीटर अंदर अरब सागर मे स्थित है रोज अरब सागर की लहरे यहाँ के शिवलिंगों का जल अभिषेक करती है लोग पैदल चलकर ही इस मंदिर में दर्शन करने जाते है इसके लिए उन्हें ज्वर उतरने तक का इंतज़ार करना पड़ता है ज्वार के समय सिर्फ मंदिर का खम्बा और पातका ही दिखाई देता है ! जिसे देखकर यह अंदाज़ा भी नहीं लगाया जा सकता है कि समुन्द्र के नीचे भगवान शिव का एक प्राचीन मंदिर भी स्थित है !

यह मंदिर महाभारत के समय का बताया जाता है ऐसा माना जाता है कि महाभारत युद्ध मे पांडवों ने कौरवों का वध कर युद्ध जीता पर युद्ध समाप्ति के बाद पांडवो को ज्ञात हुआ की उसने अपने ही सगे संबंधियों की हत्या करके महा पाप किया है इस महा पाप से छुटकारा पाने के लिए पांडव भगवान श्री कृष्ण के पास गए भगवान् श्री कृष्ण ने पांडवों को पाप से मुक्ति के लिए एक काला ध्वजा और एक काली गाय सोपि और पांडवो को गाय का अनुसरण करने को कहा और कहा जब गाय और ध्वजे का रंग काले से सफ़ेद हो जाये तो समझलेना की तुम सबको पाप से मुक्ति मिल गई है साथ ही भगवान श्री कृष्ण ने पांडवों से यह भी कहा कि जिस जगह यह चमत्कार होगा वही पर तुम भगवान शिव की तपस्या भी करना पांचो भाई श्री कृष्ण के कहे अनुसार काली ध्वजा हाथ मे लिए काली गाय के पीछे पीछे चलने लगे इसी क्रम मे वो सब अलग - अलग जगह पर गए लेकिन गाय और ध्वजा का रंग नहीं बदला पर जब वो गुजरात मे स्तिथ कोलियाक तट पर पहुंचे तो गाय और ध्वजा का रंग चेंज हो गया इससे पांचों पांडव भाई बड़े खुश हुए और वहीं पर भगवन शिव का ध्यान करते हुए तपस्या करने लगे भगवान भोले नाथ उनकी तपस्या से बहुत प्रसन्न हुए और पांचों पांडव को लिंग रूप में अलग अलग दर्शन दिए !

पांच शिवलिंग

छवि स्रोत times now
वही पांचो शिवलिंग अभी भी वहीं पर स्थित है पांचो शिवलिंग के सामने नंदी की प्रतिमा भी स्थित है पांचो शिवलिंग एक बरगाकर चबूतरे पर बने हुए है तथा एक कोली अंख समुन्द्र तट से पूर्व की ओर तीन किलोमीटर अंदर अरब सागर मे स्थित है ! इस चबूतरे के ऊपर एक छोटा सा पानी का तालाब भी है जिसे पांडव तालाब भी कहते है ! इसमें श्रद्धालु सबसे पहले अपने हाथ और पाव को धोते है और फिर शिवलिंगो की पूजा अर्चना करते है क्यूंकि यहाँ पर आकर पांडव को अपने भाइयो की हत्या कलंक से मुक्ति मिली थी इसलिए इसे निष्कलंक महादेव मन्दिर कहते है भादो के महीने में आमावस मैं यहाँ मेला भी लगता है जिसे भदर्वी भी कहा जाता है प्र्तेक आमावस जे दिन यहा भगतो की बहुत भीड़ रहती है लोगो की ऐसी मान्यता है की अगर हम प्रिये जनों की चिता की आग शिवलिंग पर लगाकार जल मे प्रवाहित करदे तो उनको मोक्ष मिल जाता है मंदिर मे भगवान शिव को राख, दूध, दही और नारियल अर्पित किये जाते है !

आपकी प्रतिक्रिया क्या है?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow