माता शैलपुत्री, मंत्र, आरती, स्तुति, पूजा विधि

देवी शैलपुत्री प्रकृति मां का एक पूर्ण रूप हैं। वह धैर्य और भक्ति की प्रतिमूर्ति हैं। वह देवी पार्वती भी हैं जो इस रूप में भगवान शिव की पत्नी के रूप में प्रतिष्ठित हैं।

माता शैलपुत्री, मंत्र, आरती, स्तुति, पूजा विधि

माता शैलपुत्री:
• माथे पर आधा चाँद
• दाहिने हाथ में त्रिशूल
• बाएं हाथ में कमल
• नंदी पर चढ़ा हुआ बैल

शैलपुत्री एक संस्कृत नाम है, जिसका अर्थ है - पर्वत की पुत्री (शैला = पर्वत, पुत्री = पुत्री)। किंवदंती के अनुसार, मां दुर्गा ने पर्वत राज हिमालय (हिमालय के राजा) के घर में जन्म लिया था। इसलिए उनके इस अवतार का नाम शैलपुत्री पड़ा। हिमालय के राजा का नाम हेमवन था। इसलिए उनका नाम हेमवती भी पड़ा।

अपने पिछले जन्म में, वह शिव की पत्नी और दक्ष की पुत्री थीं। तो, उनके पास सती, भवानी जैसे नाम भी हैं। एक बार दक्ष ने एक बड़े यज्ञ का आयोजन किया। उन्होंने शिव को आमंत्रित नहीं किया। लेकिन, सती इसका विरोध नहीं कर सकीं और वह वहां पहुंच गईं। यज्ञ के दौरान दक्ष ने शिव का अपमान किया। वह इसे नहीं ले सकी और यज्ञ की अग्नि में कूद पड़ी। बाद में, उसने पार्वती (हेमावती भी) के रूप में पर्वत भगवान के घर में जन्म लिया और फिर से भगवान शिव से विवाह किया। बैल पर सवार होने के कारण इन्हें वृषरुधा के नाम से भी जाना जाता है। यह 2 शब्दों से बना एक संस्कृत शब्द है: वृषा = बैल और अरुधा = जिसे धारण किया जाना है।

ज्योतिषीय पहलू
देवी शैलपुत्री ज्योतिष में चंद्रमा ग्रह को नियंत्रित करती हैं। इनकी पूजा करने से चंद्रमा के सभी बुरे प्रभाव समाप्त हो जाते हैं।

माता शैलपुत्री की कथा सुनने के लिए यहां क्लिक करें

मां शैलपुत्री की पूजा विधि
नवरात्रि कलश स्थापना के बाद मां शैलपुत्री को अक्षत्, धूप, दीप, गंध, सफेद फूल, फल, सफेद मिठाई या दूध से बने पकवान, कुमकुम, हल्दी, दूर्वा, लौंग आदि अर्पित करते हुए पूजा करते हैं. इस दौरान मां शैलपुत्री के पूजा एवं प्रार्थना मंत्र को पढ़ सकते हैं. इसके बाद मां शैलपुत्री की कथा को पढ़ें. फिर घी का एक दीपक जलाएं और मां शैलपुत्री की आरती विधिपूर्वक करें.

मंत्र
ॐ देवी शैलपुत्र्यै नमः॥

वन्दे वाञ्छितलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखरम्।
वृषारुढां शूलधरं शैलपुत्री यशस्विनीम्॥

स्तुति: या देवी सर्वभूतेषु माँ शैलपुत्री रूपेण थिथता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:॥

मां शैलपुत्री की आरती
शैलपुत्री मां बैल पर सवार।
करें देवता जय जयकार।
शिव शंकर की प्रिय भवानी।
तेरी महिमा किसी ने ना जानी।।

पार्वती तू उमा कहलावे।
जो तुझे सिमरे सो सुख पावे।
ऋद्धि-सिद्धि परवान करे तू।
दया करे धनवान करे तू।।

सोमवार को शिव संग प्यारी।
आरती तेरी जिसने उतारी।
उसकी सगरी आस पुजा दो।
सगरे दुख तकलीफ मिला दो।।

घी का सुंदर दीप जला के।
गोला गरी का भोग लगा के।
श्रद्धा भाव से मंत्र गाएं।
प्रेम सहित फिर शीश झुकाएं।

जय गिरिराज किशोरी अंबे।
शिव मुख चंद्र चकोरी अंबे।।
मनोकामना पूर्ण कर दो।
भक्त सदा सुख संपत्ति भर दो।

आपकी प्रतिक्रिया क्या है?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow