डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपया अब तक के सबसे निचले स्तर पर, तेल की कीमतों में आया उछाल

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में तेज उछाल ने आयातित मुद्रास्फीति को बढ़ाने और देश के व्यापार और चालू खाता घाटे को चौड़ा करने की धमकी के रूप में रुपया सोमवार को शुरुआती कारोबार में जीवन भर के निचले स्तर पर पहुंच गया, रॉयटर्स ने बताया।

डॉलर के मुकाबले भारतीय रुपया अब तक के सबसे निचले स्तर पर, तेल की कीमतों में आया उछाल

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में तेज उछाल ने आयातित मुद्रास्फीति को बढ़ाने और देश के व्यापार और चालू खाता घाटे को चौड़ा करने की धमकी के रूप में रुपया सोमवार को शुरुआती कारोबार में जीवन भर के निचले स्तर पर पहुंच गया, रॉयटर्स ने बताया।


रुपया हिट रॉक बॉटम:

आंशिक रूप से परिवर्तनीय रुपया 76.92/93 प्रति डॉलर पर कारोबार कर रहा था, जो 76.96 को छूने के बाद अब तक का सबसे कमजोर स्तर है। रॉयटर्स की रिपोर्ट के मुताबिक शुक्रवार को यह 76.16 पर बंद हुआ था।

पीटीआई की रिपोर्ट में कहा गया है कि इंटरबैंक विदेशी मुद्रा पर रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 76.85 पर खुला, फिर 76.98 पर और फिसलकर 81 पैसे की गिरावट दर्ज की।

शुक्रवार को रुपया अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 23 पैसे गिरकर 76.17 पर बंद हुआ, जो 15 दिसंबर, 2021 के बाद का सबसे निचला स्तर है।

रुपया क्यों गिर रहा है?

रिलायंस सिक्योरिटीज के वरिष्ठ शोध विश्लेषक श्रीराम अय्यर ने कहा कि आज सुबह कच्चे तेल के साथ डॉलर में तेजी के कारण भारतीय रुपया कमजोर होने लगा।

अय्यर ने कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) अस्थिरता को रोकने के लिए मौजूद हो सकता है।

अय्यर ने कहा कि अमेरिकी डॉलर और येन एशियाई व्यापार में सोमवार की सुबह मजबूत कारोबार कर रहे हैं क्योंकि निवेशक सुरक्षित-संपत्ति की ओर बढ़ रहे हैं।

अंतरराष्ट्रीय तेल की कीमतें:

बेंचमार्क 10-वर्षीय बॉन्ड यील्ड 6.86 प्रतिशत पर कारोबार कर रहा था, जो उस दिन 5 आधार अंक था।

इस बीच, संयुक्त राज्य अमेरिका और यूरोपीय सहयोगियों द्वारा रूसी तेल आयात पर प्रतिबंध लगाने के बाद वैश्विक तेल बेंचमार्क ब्रेंट क्रूड वायदा 9.38 प्रतिशत उछलकर 129.19 डॉलर प्रति बैरल हो गया, जबकि वैश्विक बाजारों में ईरानी कच्चे तेल की संभावित वापसी में देरी से तंग आपूर्ति की आशंका बढ़ गई।

आपकी प्रतिक्रिया क्या है?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow