जानिए किस गाने ने रातोंरात बना दिया Narendra Chanchal को भजन सम्राट

आज हम जिनकी बात करने जा रहे है उनको शायद ही ऐसा कोई होगा जो जनता नहीं होगा। जय माता दी, रोटी कपड़ा और मकान और चलो बुलावा आया है माता ने बुलाया है, इन गानो से हर कोई वाकिफ है तो चलिए जानते है की कैसे Narendra Chanchal रातोंरात भजन के सम्राट बन गए....................

जानिए किस गाने ने रातोंरात बना दिया Narendra Chanchal को भजन सम्राट
नाम  नरेंद्र चंचल
मशहूर नाम भजन सम्राट
जन्म 16 अक्टूबर 1940 
होम टाउन अमृतसर
राष्ट्रीयता भारतीय
धर्म हिन्दू
पता अमृतसर, पंजाब, भारत
मृत्यु 22 जनवरी, 2021
मां का नाम कैलाशवती 
पिता का नाम चेत राम खरबंदा

                    अनुसूची (Contents) 
1. जन्म और परिवार (Birth and Family)
2. कैसे मिला चंचल नाम (How did you get the name Chanchal)
3. करियर (Career)
4. गाने
5. सोशल मीडिया लिंक (Social Media Links)
6. इन्हें भी देखें (Also See)

1. जन्म और परिवार (Birth and Family)

नरेंद्र चंचल (Narendra Chanchal) का जन्म 16-10-1940 को अमृतसर, पंजाब राज्य, भारत में हुआ था। वह एक भारतीय गायक, पार्श्व गायक, संगीतकार, गीतकार, लेखक, कवि हैं और अपने भजन और आरती के लिए प्रसिद्ध हैं। उनके माता-पिता देवी दुर्गा के अनुयायी थे। इसलिए, बहुत कम उम्र से, उन्हें भजनों में दिलचस्पी थी क्योंकि उनका पालन-पोषण उनके घर में एक धार्मिक माहौल में हुआ था। 

2. कैसे मिला चंचल नाम (How did you get the name Chanchal)

वह अपनी कक्षा के सबसे शरारती छात्रों में से थे, जिसके कारण उनके शिक्षक ने उन्हें चंचल नाम दिया, जिसे बाद में उन्होंने अपने असली नाम नरेंद्र से जोड़ा। उन्होंने अमृतसर में श्री प्रेम टिखा से संगीत की शिक्षा ली। इसके तुरंत बाद उन्होंने अपने क्षेत्र में आरती और भजन गाना शुरू कर दिया। वह हर साल 29 दिसंबर को कटरा वैष्णो देवी जाते थे।  

3. करियर (Career)

उन्होंने राज कपूर की फिल्म बॉबी (1973) में पार्श्व गायक के रूप में अपना पहला गीत गाया, जिसमें ऋषि कपूर और डिंपल कपाड़िया ने अभिनय किया था। गाना था "बेशक मंदिर मस्जिद तोड़ो", जिसके बोल राज कविंदरजीत सिंह तुलसी ने दिए थे। इस गाने के बाद उन्होंने बॉलीवुड में कई गाने गाए. जिनमें से उनके सबसे लोकप्रिय गाने आशा की जय माता दी, रोटी कपड़ा और मकान और चलो बुलावा आया है माता ना बुलाया के अवतार हैं। गीत "बेशक मंदिर मस्जिद तोड़ो" ने फिल्मफेयर बेस्ट मेल प्लेबैक अवार्ड जीता।

4. गाने

गाना   फ़िल्म साल  भाषा
"बेशक मंदिर मस्जिद तोड़ो" बॉबी   1973  हिंदी  
"मैं बेनाम हो गया।" बेनाम 1974  हिंदी
"बाकि कुछ बचा तो महंगाई मार गयी" रोटी कपड़ा और मकान 1974  हिंदी
"तूने मुझे बुलाया" आशा 1980  हिंदी
"चलो बुलावा आया है माता ने बुलाया है" अवतार   1983  हिंदी
"दो घूंट पिला दे सकिया" काला सूरज 1985  हिंदी  
"हुए हैं कुछ ऐसे वो हमसे पराये" दो अनजाने 1994  हिंदी

5. सोशल मीडिया लिंक (Social Media Links)

Facebook/Narender Chanchal Fan's Club

Youtube/bhajan

spotify/Narendra Chanchal

6. इन्हें भी देखें (Also See)

आपकी प्रतिक्रिया क्या है?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow