'कभी राम बनके कभी श्याम बनके' की गायिका Tripti Shakya क्यों हुई रातोंरात मशहूर जानिए पूरी कहानी

'कभी राम बनके कभी श्याम बनके' सुपरहिट भजन की गायिका साथ ही सात भाषाओं पर कमांड रखने वाली तृप्ति शाक्य (Tripti Shakya) वर्सेटाइल पार्श्व गायिका है जिन्होंने अपने नाम बहुत से पुरस्कार किये....

'कभी राम बनके कभी श्याम बनके' की गायिका Tripti Shakya क्यों हुई रातोंरात मशहूर जानिए पूरी कहानी
नाम (Name)  तृप्ति शाक्य (Tripti Shakya)
व्यवसाय (profession) वर्सेटाइल पार्श्व गायिका (versatile playback singer)
जन्म (Birth) 5 अगस्त 1976 (5 August 1976)
जन्म स्थान (birth place) इटावा Etawah (UP)

                            अनुसूची (Contents) 
1. जन्म (Birth)
2. एजुकेशन (Education)
3. पुरस्कार (Award)
4. लोकप्रिय एल्बम (popular albums)
5. सोशल मीडिया लिंक (Social Media Links)
6. इन्हें भी देखें (Also see)

1. जन्म (Birth)

तृप्ति शाक्य (Tripti Shakya) वर्सेटाइल पार्श्व गायिका (versatile playback singer) हैं, जो पिछले 25 सालों से गा रही हैं। तृप्ति शाक्य (Tripti Shakya) 5 अगस्त 1976 इटावा (UP) में जन्मी और इलाहाबाद (UP) में पली-बढ़ी। तृप्ति सात भाषाओं में कमांड करती है- हिंदी, भोजपुरी, बंगाली, राजस्थानी, पंजाबी, संस्कृत और नेपाली(Hindi, Bhojpuri, Bengali, Rajasthani, Punjabi, Sanskrit and Nepali)। 18 साल की छोटी उम्र में उनका पहला ऑडियो जारी किया गया था और तब से वह संगीत की दुनिया में ख्याति प्राप्त कर रही हैं। T-Series, Tip, Venus, HMV, Yuki, JMD Sounds, Chanda, Sontec और अन्य कंपनियों द्वारा 700 से अधिक ऑडियो और वीडियो एल्बम जारी किए गए हैं।


2. एजुकेशन (Education)

इलाहाबाद विश्वविद्यालय (Allahabad University) से अंग्रेजी में मास्टर डिग्री (Master's Degree in English)। स्वर संगीत में संगीत प्रभाकर की उपाधि।

3. पुरस्कार (Award)

तृप्ति को "1994 में मोहम्मद रफी पुरस्कार", 
2002 में संगीत शिखर सम्मान, 
2001 में अंतर्राष्ट्रीय भोजपुरी रत्न पुरस्कार, 
2002 में प्रयाग गौरव पुरस्कार 
2002 में व्यावसायिक पुरस्कार से सम्मानित किया गया है।

4. लोकप्रिय एल्बम (popular albums)

तृप्ति शाक्य का लोकप्रिय एल्बम ''कभी राम बांके कभी श्याम बांके'' त्रिपाठी ने प्यार के बोखर, बरूद, साजन चले ससुराल, इंसाफ, चट्टान, सुहागन और भोजपुरी फिल्मों जैसे पिरितिया के दुश्मन, माई जैसन भाऊजी हमर, थवे वाली मैया आदि जैसी हिंदी फिल्मों के लिए अपनी आवाज दी है। उनका एल्बम "कभी राम बांके कभी श्याम बांके" ने दुनिया भर में एक बड़ी सफलता हासिल की।

5. सोशल मीडिया लिंक (Social Media Links)

Facebook/Tripti Shakya 

Instagram/triptishakya

आपकी प्रतिक्रिया क्या है?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow