Navratri 2022: जानिए मां दुर्गा के नौ रूप और उनकी कथा (nine forms of Maa Durga and her story)

आज इस Articleमें हम आपको 9 देवियों की कथा बताएंगे की उन्हें मां दुर्गा (Maa Durga) से ये 9 रूपों में क्यों आना पड़ा तो चलिए जानते है ..............

Navratri 2022: जानिए मां दुर्गा के नौ रूप और उनकी कथा (nine forms of Maa Durga and her story)

मां शैलपुत्री की कथा (Story of Maa Shailputri)

मां शैलपुत्री को सती के नाम से भी जाना जाता है। उनकी कथा इस प्रकार है- एक बार प्रजापति दक्ष ने यज्ञ करने का निश्चय किया। इसके लिए उन्होंने सभी देवताओं को निमंत्रण भेजा, लेकिन भगवान शिव को नहीं। देवी सती अच्छी तरह जानती थीं कि उनके पास निमंत्रण आएगा, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। वह उस यज्ञ में जाने के लिए बेचैन थी, लेकिन भगवान शिव ने मना कर दिया। उन्होंने कहा कि उनके पास यज्ञ में जाने का कोई निमंत्रण नहीं आया है और इसलिए वहां जाना उचित नहीं है। सती नहीं मानी और बार-बार यज्ञ में जाने का आग्रह करती रहीं। सती की अवज्ञा के कारण शिव को उनकी बात माननी पड़ी और अनुमति दे दी।

जब सती अपने पिता प्रजापिता दक्ष के यहां पहुंचीं तो उन्होंने देखा कि कोई उनसे आदर और प्रेम से बात नहीं कर रहा है। सब लोग उनसे बुरा बर्ताव कर रहे थे केवल उनकी माँ ने उन्हें प्यार से गले लगाया। उसकी बाकी बहनें उसका उपहास कर रही थीं और सती के पति भगवान शिव का भी तिरस्कार कर रही थीं। खुद दक्ष ने भी अपमान करने का कोई मौका नहीं छोड़ा। ऐसा व्यवहार देखकर सती उदास हो गईं। वह अपना और अपने पति का अपमान सहन नहीं कर सकी... और फिर अगले ही पल उसने वह कदम उठाया जिसकी खुद दक्ष ने भी कल्पना नहीं की होगी।

सती ने उसी यज्ञ की अग्नि में स्वयं को मार कर अपने प्राणों की आहुति दे दी। जैसे ही भगवान शिव को इस बात का पता चला, वे दुखी हो गए। दु:ख और क्रोध की ज्वाला में जलकर शिव ने उस यज्ञ को नष्ट कर दिया। इस सती का पुन: यहीं हिमालय में जन्म हुआ और वहीं जन्म होने के कारण उनका नाम शैलपुत्री पड़ा।

माँ ब्रह्मचारिणी व्रत कथा (Mother Brahmacharini Vrat Katha)

मान्यताओं के अनुसार, ब्रह्मचारिणी माता ने अपने पूर्वजन्म ( पिछले जन्म ) में राजा हिमालय की पुत्री के रूप में जन्म लिया था। बड़े होने के बाद मां ने नारद जी की शिक्षाओं से भगवान शिव शंकर को पति के रूप में पाने के लिए कठोर तपस्या की। इसी तपस्या के कारण उनका नाम ब्रह्मचारिणी पड़ा। उन्होंने एक हजार साल तक फल और फूल खाकर समय बिताया और सौ साल तक जमीन पर ही रह कर तपस्या की।

शिव शंकर को पाने के लिए माता ने कठोर व्रत रखा। खुले आसमान के नीचे उन्हें बारिश और धूप का भीषण दर्द सहना पड़ा। तीन हजार साल तक मां ने टूटे हुए बिल्वपत्र खाकर भोलेनाथ की पूजा की। बाद में मां ने सूखे बिल्वपत्र भी खाना बंद कर दिया। इसी के कारन उनका नाम अपर्णा भी है। माता ने निर्जल और भूखे रहकर कई हजार वर्षों तक घोर तपस्या की।

कठिन तपस्या से देवी मां का शरीर पूरी तरह से सूख गया। तब देवताओं, मुनियों ने ब्रह्मचारिणी माता की तपस्या की सराहना करते हुए कहा, हे माता, संसार में इतनी कठोर तपस्या कोई नहीं कर सकता। ऐसी तपस्या आप ही कर सकते हैं। आपकी इस तपस्या से आपको भोलेनाथ पति के रूप में अवश्य ही प्राप्त होंगे। यह सुनकर माँ ब्रह्मचारिणी ने तपस्या को पूरा किया और अपने पिता के घर चली गई। वहां जाने के कुछ दिन बाद मां ने शिव शंकर को पति के रूप में प्राप्त किया।

माता चंद्रघंटा की कथा (Story of Mata Chandraghanta)
प्रचलित कथा के मुताबिक, माता दुर्गा ने मां चंद्रघंटा का अवतार तब लिया था जब दैत्यों का आतंक बढ़ने लगा था. उस समय महिषासुर का भयंकर युद्ध देवताओं से चल रहा था. महिषासुर देवराज इंद्र का सिंहासन प्राप्त करना चाहता था. वह स्वर्ग लोक पर राज करने की इच्छा पूरी करने के लिए यह युद्ध कर रहा था. जब देवताओं को उसकी इस इच्छा का पता चला तो वे परेशान हो गए और भगवान ब्रह्मा, विष्णु और महेश के सामने पहुंचे. ब्रह्मा, विष्णु और महेश ने देवताओं की बात सुन क्रोध प्रकट किया और क्रोध आने पर उन तीनों के मुख से ऊर्जा निकली. उस ऊर्जा से एक देवी अवतरित हुईं. उस देवी को भगवान शंकर ने अपना त्रिशूल, भगवान विष्णु ने अपना चक्र, इंद्र ने अपना घंटा, सूर्य ने अपना तेज और तलवार और सिंह प्रदान किया. इसके बाद मां चंद्रघंटा ने महिषासुर तका वध कर देवताओं की रक्षा की.

माता कूष्मांडा की कथा (Story of Mata Kushmanda)

पौराणिक कथा के अनुसार ऐसा कहा जाता है कि जब सृष्टि का अस्तित्व नहीं था, तब इन्हीं देवी ने ब्रह्मांड की रचना की थी। ये ही सृष्टि की आदि-स्वरूपा, आदिशक्ति हैं। इनका निवास सूर्यमंडल के भीतर के लोक में है। वहां निवास कर सकने की क्षमता और शक्ति केवल इन्हीं में है।

इनके शरीर की कांति और प्रभा भी सूर्य के समान ही दैदीप्यमान हैं। मां कूष्मांडा की उपासना से भक्तों के समस्त रोग-शोक मिट जाते हैं। इनकी भक्ति से आयु, यश, बल और आरोग्य की वृद्धि होती है। मां कूष्माण्डा अत्यल्प सेवा और भक्ति से प्रसन्न होने वाली हैं।

इनका वाहन सिंह है। नवरात्र -पूजन के चौथे दिन कूष्माण्डा देवी के स्वरुप की ही उपासना की जाती है। इस दिन माँ कूष्माण्डा की उपासना से आयु, यश, बल, और स्वास्थ्य में वृद्धि होती है।

स्कंद माता कथा (Skanda Mata Story-)

दुर्गा पूजा के पांचवें दिन देवताओं के सेनापति कुमार कार्तिकेय की माता की पूजा की जाती है। कुमार कार्तिकेय को ग्रंथों में सनत-कुमार, स्कंद कुमार कहा गया है। माता का पांचवा रूप शुभ्रा यानि श्वेत है।

 जब अत्याचारी दैत्यों के अत्याचार बढ़ जाते हैं तो संतों की रक्षा के लिए माता सिंह पर सवार होकर दुष्टों का अंत करती है। देवी स्कंदमाता की चार भुजाएँ हैं, माँ के दो हाथों में कमल का फूल है और एक भुजा में भगवान स्कंद (कुमार कार्तिकेय) को सहारा देते हुए उनकी गोद में विराजमान हैं। मां का चौथा हाथ भक्तों को आशीर्वाद देने की मुद्रा में है।

 देवी स्कंद माता हिमालय पार्वती की पुत्री हैं, उन्हें माहेश्वरी और गौरी के नाम से जाना जाता है। पर्वत राज की पुत्री होने के कारण इन्हें पार्वती कहा जाता है, महादेव की पत्नी होने के कारण उन्हें माहेश्वरी कहा जाता है और उनके गौर चरित्र के कारण उन्हें देवी गौरी के नाम से पूजा जाता है। माँ अपने बेटे से ज्यादा प्यार करती है, इसलिए माँ को अपने बेटे के नाम से पुकारना अच्छा लगता है। जो भक्त मां के इस रूप की पूजा करता है, मां अपने पुत्र की तरह उस पर अपना स्नेह बरसाती है।

भोले शंकर को पति के रूप में पाने के लिए माता ने बड़ा व्रत किया, महादेव की आदरपूर्वक पूजा करनी चाहिए, क्योंकि यदि उनकी पूजा नहीं की जाती है, तो उन्हें देवी की कृपा नहीं मिलती है। देवी लक्ष्मी के साथ श्री हरि की पूजा करनी चाहिए।

माता कात्यायन की कथा (Story of Mata Katyayan)
पौराणिक कथा के अनुसार जब महर्षि कात्यायन ने मां नवदुर्गा की घोर तपस्या की थी। तब माता उनकी तपस्या से प्रसन्न हुई और उनके घर उनकी पुत्री के रूप में जन्म लिया। देवी दुर्गा का जन्म महर्षि कात्यायन के आश्रम में हुआ था। माता का लालन-पालन ऋषि कात्यायन ने किया था। आश्विन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को देवी दुर्गा का जन्म ऋषि कात्यायन के यहाँ हुआ था। मां के जन्म के बाद ऋषि कात्यायन ने भी अपनी बेटी मां दुर्गा की 3 दिनों तक पूजा की। तीन दिनों तक ऋषि की पूजा स्वीकार करने के बाद, देवी ने ऋषि से विदा ली। महिषासुर राक्षस के बढ़ते अत्याचार के कारण, माँ कात्यायनी ने महिषासुर को युद्ध में चुनौती दी और उनका अंत कर दिया, इसलिए उन्हें महिषासुर मर्दानी भी कहा जाता है।

मां कालरात्रि कथा (Maa Kalratri Story)
एक पौराणिक कथा के अनुसार, एक रक्तबीज नाम का राक्षस था। मनुष्य के साथ देवता भी इससे परेशान थे।रक्तबीज दानव की विशेषता यह थी कि जैसे ही उसके रक्त की बूंद धरती पर गिरती तो उसके जैसा एक और दानव बन जाता था। इस राक्षस से परेशान होकर समस्या का हल जानने सभी देवता भगवान शिव के पास पहुंचे। भगवान शिव को ज्ञात था कि इस दानव का अंत माता पार्वती कर सकती हैं।

भगवान शिव ने माता से अनुरोध किया। इसके बाद मां पार्वती ने स्वंय शक्ति व तेज से मां कालरात्रि को उत्पन्न किया। इसके बाद जब मां दुर्गा ने दैत्य रक्तबीज का अंत किया और उसके शरीर से निकलने वाले रक्त को मां कालरात्रि ने जमीन पर गिरने से पहले ही अपने मुख में भर लिया। इस रूप में मां पार्वती कालरात्रि कहलाई।

मां महागौरी कथा -  Maa Mahagauri Katha 
मां दुर्गा के आठवें रूप महागौरी के बारे में दो पौराणिक कथाएं प्रचलित हैं। पहली कथा के अनुसार पर्वतराज हिमालय के घर में जन्म लेने के बाद माता पार्वती ने भगवान शिव को पति के रूप में पाने के लिए घोर तपस्या की थी। तपस्या करते हुए मां हजारों वर्षों से उपवास कर रही थी, जिससे मां का शरीर काला पड़ गया था। वहीं दूसरी ओर माता की कठोर तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने माता पार्वती को अपनी पत्नी के रूप में स्वीकार कर लिया और गंगा के पवित्र जल से माता के शरीर को धोकर उन्हें अत्यंत दीप्तिमान बना दिया, माता का रूप गौरवान्वित हो गया। जिसके बाद माता पार्वती के इस रूप को महागौरी कहा गया।

दूसरी कथा - second story

वहीं दूसरी ओर एक अन्य कथा के अनुसार कालरात्रि के रूप में सभी राक्षसों का वध करने के बाद भोलेनाथ ने माता पार्वती को उनकी मां काली कहकर चिढ़ाया था। अपनी त्वचा को उत्तेजित करने के लिए, माँ ने कई दिनों तक घोर तपस्या की और ब्रह्मा जी को अर्घ्य दिया। देवी पार्वती से प्रसन्न होकर ब्रह्मा ने उन्हें हिमालय में मानसरोवर नदी में स्नान करने की सलाह दी। भगवान ब्रह्मा की सलाह के बाद, माँ पार्वती ने मानसरोवर में स्नान किया। इस नदी में स्नान करने के बाद माता के स्वरूप का अभिमान हो गया। इसलिए माता के इस रूप को महागौरी कहा गया। आपको बता दें कि माता पार्वती देवी भगवती का रूप हैं।

माता सिद्धिदात्री की कथा (Story of Mata Siddhidatri:)

एक पौराणिक कथा के अनुसार, भगवान शिव ने मां सिद्धिदात्री की कठोर तपस्या कर आठों सिद्धियों को प्राप्त किया था। साथ ही मां सिद्धिदात्री की कृपा ने भगवान शिव का आधा शरीर देवी हो गया था और वह अर्धनारीश्वर कहलाए। मां दुर्गा का यह अत्यंत शक्तिशाली स्वरूप है। शास्त्रों के अनुसार, देवी दुर्गा का यह स्वरूप सभी देवी-देवताओं के तेज से प्रकट हुआ है। कहते हैं कि दैत्य महिषासुर के अत्याचारों से परेशान होकर सभी देवतागणम भगवान शिव और प्रभु विष्णु के पास गुहार लगाने गए थे। तब वहां मौजूद सभी देवतागण से एक तेज उत्पन्न हुआ। उस तेज से एक दिव्य शक्ति का निर्माण हुआ। जिन्हें मां सिद्धिदात्री के नाम से जाना जाता हैं।

पौराणिक मान्यता के अनुसार मां सिद्धिदात्री के पास अणिमा, महिमा, गरिमा, लघिमा, प्राप्ति, प्राकाम्य, ईशित्व और वशित्व सिद्धियां हैं। माता रानी अपने भक्तों को सभी आठों सिद्धियों से पूर्ण करती हैं। मां सिद्धिदात्री को जामुनी या बैंगनी रंग अतिप्रिय है। ऐसे में भक्त को नवमी के दिन इसी रंग के वस्त्र धारण कर मां सिद्धिदात्री की पूजा-अर्चना करनी चाहिए। मान्यता है कि ऐसा करने से माता की हमेशा कृपा बनी रहती हैं।

आपकी प्रतिक्रिया क्या है?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow